Friday, November 19, 2010

Check out Kawasaki Ninja 250R | Kawasaki Ninja Bike | Sports Bike | Probiking | 250cc Sports Bike | Bajaj Auto India

Check out Kawasaki Ninja 250R | Kawasaki Ninja Bike | Sports Bike | Probiking | 250cc Sports Bike | Bajaj Auto India

Tuesday, August 10, 2010

बम बम बोल रहा है काशी ..............

गुरु सावन का महीना मस्ती से भरा होता है बारिश का मज़ा चलता रहता है चारो तरफ मौज ही मौज हरियाली ही हरियाली. बारिश में भीगने का मज़ा ही अलग होता है उस पे बाबा विश्वनाथ यानि शिव जी का महीना चल रहा हो तो मज़ा दुगना हो जाता है, शिव की भक्ति के साथ मस्ती के रस में डूब जाओ. बनारस में इस महीने का मज़ा अलग ही होता है, चारो तरफ मेला लगा होता है दिन भर काम शाम को मेले में मस्ती उस पर से बारिश का आनंद. गुरु क्या बोले जी तो चाहता है फिर से वापस उस बचपन में चले जाये.................................................................
फिर भी हम इस महीने का मज़ा उसी तरह से लेते है जैसे पहले लिया करते थे................
हर हर महादेव

लल्लन

Sunday, June 20, 2010

हिन्दुस्तान जिंदाबाद

वो मारा पापड़ वाले को हिला दिया पूरी दुनिया को कल के मैच में बवाल मचा दिया. इतना आनंद आया की क्या बताये मतलब बया नहीं कर पा रहे है. गंभीर और भज्जी ने तो मुहतोड़ जवाब दिया है. अकमल और सोएब अब ज्यादा नहीं बोलेंगे. सब को करारा जवाब मिला है. सही मिसाल है की गरजने वाले बरसते नहीं. यहाँ पे बरस बरस के पूरा गीला कर दिया. हमारी टीम ने कहा जितना उड़ना है उड़ लो हम ज्यादा देर तक उड़ने नहीं देंगे. मज़ा आ गया.
और गुरु लोगो आप लोगो ने भी मैच का आनद लिया ही होगा आगे क्या बताना पर ये पढने के बाद जोर से हिन्दुस्तान जिंदाबाद जरुर बोलियेगा.
हम आज कल आप लोगो से बाते नहीं कर पा रहे क्युकी अपना काम शुरू किये है तो थोडा busy है. पर आप अपना सहयोग बनाये रखियेगा.

बस इतना कहना चाहते है की
" हम उबलते है तो भूचाल उमड़ जाते है,
हम मचलते है तो तूफ़ान मचल जाते है,
हमको बदलने की कोशिश मत करो भाई,
हम बदलते है तो इतिहास बदल जाते है."

आपका लल्लन.

Friday, May 28, 2010

मौसम हुआ खुशगवार

गुरु लोगो क्या हो रहा है? यहाँ पे थोडा मौसम अच्छा हुआ है गुरु अब जा के थोडा सा मन शांत हुआ है. पर लगता नहीं है की ये मौसम कुछ समय तक ऐसा ही रहेगा. अरे गुरु ये तो सिर्फ झलक है भैया ये गर्मी तो गजब ही कर रही है. यहा पे नौकरी के चक्कर में रहना पड़ रहा है नहीं तो अपना घर इस समय पूरा ठंडा रहता है मस्तियाते रहो. माता जी हमें लस्सी और जाने क्या क्या बना के खिला रही होती. पूरे दिन भर कुलर के सामने बैठे रहो जब मन करे आम खा लो. जब मन करो लस्सी पि लो. अरे गुरु हम तो कह रहे है इस गर्मी में हिल स्टेशन अपना घर ही होता है चाहे जितना प्रकोप हो गर्मी का आदमी मस्त ही रहता है. अब यहाँ पे वो दसहरी और लगन्दा आम कहा मिलता है जिसकी खुशबू से ही पूरा घर मस्त हो जाता है. शाम को गंगा जी के घाट पे मस्ती करते. एक जमाना था जब रोज यही करते थे अब तो सोचना पड़ता है की कैसे करे ये सारी बाते. फिर भी पुरानी यादो को अपने दोस्तों के साथ शेयर करके मस्त हो जाते है.
अबे भोकाल है हम समझे.

लल्लन

Tuesday, May 18, 2010

धन्यवाद

गुरु आप सभी का धन्यवाद. हमें ये जानकर अति प्रसनता हुई की हमारे कथनों को भी कोई पढ़ रहा है. जी हम तो बहुत खुश हो गए है की क्या बताये हम बया नहीं कर पा रहे है. आप सभी का स्नेह इसी तरह बना रहे तो मज़ा आ जाये. हम आप सभी के ब्लॉग तक कैसे पहुच पाएंगे इसका कोई तरीका बताये तो हम भी नयी नयी जानकारी पा सकेंगे.
गुरु लोगो बड़ा ही कस्ट है इस गर्मी में और सोने पे सुहागा ये हुआ है की हमारा कुलर भी ख़राब हो गया है. भाई गर्मी में तो हालत ऐसे हो गयी है की जैसे चूसा हुआ आम. गुरु लोगो कुछ अपना कम भी शुरू किया हुआ है बस ऊपर वाले के आशीर्वाद से ठीक ठाक चलना शुरू हो गया है. बस इसे में थोडा परेशा है बस.

फिर भी आपका ये दोस्त हमेशा आपके साथ है.

लल्लन

Sunday, May 16, 2010

गर्मी से बेहाल

इस गर्मी में तो भैया क्या बताये बस एक ही चारा है की दिन भर गंगा जी में डुबकी लगाओ और आम का पन्ना और लस्सी का सेवन करते रहो. और गुरु इन सारी चीजो से हम दूर यहाँ delhi में परेशां बेहाल नौकरी कर रहे है. घर से निकलो तो ऐसा लगता है की सूर्य देवता हमें जला ही डालेंगे पर क्या करे दफ्तर तो जाना ही है. परेशानी का सबब ये है की दफ्तर से बहार निकलने का मन ही नहीं करता और जब घर वापस निकलने के लिए निकलो तो लगता है किसी ने तंदूर में डाल दिया है. हम तो भैया कहते है की अपना कुलर ही सही होता है ये ससुरा AC बहुत ख़राब चीज है भाई.
वैसे गर्मी का भी एक अलग आनंद होता है आम खाने को मिलता है छुट्टिया होती है बच्चो की. घूमो मस्ती करो बस ये हो जाये की मौसम थोडा मेहरबान हो जाये............
आप सभी लोग इन छुट्टियों का आनंद लीजिये.

लल्लन

Friday, April 30, 2010

डांस का खुमार

गुरु आज कल जिस भी चैनल पे देखो वहा सिर्फ डांस ही डांस ही नज़र आ रहा है. पहले बड़ो का अब छोटे छोटे बच्चो का. गुरु हम कल जब टीवी पे बच्चो को डांस देख रहे थे तो कसम बता रहे है की ऐसा डांस तो बड़े ही नहीं कर पा रहे है. सब के सब हृतिक लग रहे है गुरु. अरे देख के मस्त हो गए है भाई २०-२० देखना भूल जा रहे है. पूरा घर यही देख रहा है. अब इतनी गर्मी में तरबूज, खरबूज और टीवी पे डांस की मस्ती ही गर्मी से निजात दिला रही है. गुरु बस यही मन कर रहा है की गंगा जी में पूरा दिन दुबकी लगाये और मस्त रहे..

लल्लन

Monday, April 26, 2010

सानिया का दावते वलीमा

सोएब मालिक और सानिया मिर्ज़ा का रविवार को सियालकोट में हुआ दावते वलीमा और नज़ारा कुछ ऐसा था की भागना पड़ा दोनों को दावत छोड़ कर. भाई बताइए तो वहा की पुलिस भी नहीं ये सुरक्षा नहीं दे पा रही है. मज़े की बात तो ये है की लोगो ने अपने कार्ड भी बेच दिए है यार इतना गिरना अच्छा नहीं है. अब बताइए की सानिया यहाँ के लडको का दिल तोड़ कर वहा चली गयी. हम ये नहीं कहते है कि किसी और देश में शादी नहीं करना चाहिए पर गुरु ये तो क्म से क्म देखना चाहिए कि देश भी तो ऐसा हो जहा रहा जा सके. मेहमान ऐसे जो बिना बुलाये पहुच गए. बताइए कोई तमीज़ है भी कि नहीं. सुना है कार्ड को लोगो ने १५००० से २०००० में बेच दिया अब इतना भी नरक नहीं मचाना चाहिए गुरु. बताइए कि जब से सानिया ने शोएब से शादी करने का फैसला किया तुब से कुछ न कुछ पंगा हो रहा है उनके साथ. वैसे ये बात गलत नहीं है कि सानिया अपने खेल से ज्यादा फालतू की बातो के लिए प्रसिद्ध है . अब देखते है हमें और कितने किस्से चटकारे ले कर सुन ने के लिए मिलेंगे.

लल्लन

चिरायु की सफाई.................

भैया लोगो IPL में कुछ ऐसा मस्त हो गए थे की यहाँ आने का समय ही नहीं मिला. अब देखिये की ललित मोदी को हटा दिया गया और चिरायु आ गए. देखिये की अब ये क्या करते है. अजी हमें तो खेल का मज़ा लेना है हम तो है सिम्पल जनता जो की इन सारी मुश्किलों से जा दूर ही रहती है . और सुनाइए की IPL का मज़ा आया या नहीं या फिर सिर्फ काम में ही busy थे. अब राजा चिरायु अमिन को अपना काम करने देते है. हम लेते है २०-२० का मज़ा. राजा मस्ती की बहार है डूब जाओ.

लल्लन

Monday, April 5, 2010

गर्मी से बेहाल

गुरु गर्मी तो ऐसे पड़ रही है की पूछो मत भाई इतना परेशान हो गए है की क्या बताये न घर से निकला जा रहा है न ही ऑफिस के बाहर चाय की चुस्की लेने का मन कर रहा है. भाई हम तो पसीने से सराबोर हो जाते है. वो तो कहिये की ऑफिस वालो की मेहरबानी है की AC लगवा रखे है नहीं तो कसम बता रहे है हालत पतली हो जा रही है गुरु. न समोसा खाने का मन कर रहा है न ही चाय पीने का मन कर रहा है. अरे गुरु आप लोग भी हमें कभी कभी याद कर लिया करे तो इससे हमें भी मज़ा आ जायेगा. रज्ज़ा मस्ती उसी में है की दिन भर फक्कड़ी करो शाम को खाना खा के सो जाओ. आप बताये की क्या हो रहा है पिक्चर कोई देखि की नहीं गुरु. आप सब के मस्त रहने की आशा करते है.

लल्लन

Tuesday, March 30, 2010

क्या हो रहा है?

गुरु लोगो माफ़ी चाहते है की हम इतने दिन आपसे दूर रहे, गुरु बहुत काम करवाती है कंपनी अब तो हाल ये है की जाना तो तय है पर आना कब है ये तो वही जा के पता चलता है. इतने दिन आप लोगो ने क्या किया इतने दिन गुरु समोसा खा खा के मोटे हो गए पर क्या करे गुरु बनारसी है तो अंदाज़ भी बनारसी है न, अरे गुरु अपने बारे में भी तो बताओ यार मीठे में क्या अच्छा लगता है हमको तो गुरु सुबह के समय जलेबी और शाम को रबरी अच्छी लगती है. वैसे तो हम मस्तिया रहे है पर ऑफिस का काम भी करते है. सबसे कहते है की गुरु तुम मस्त रहो अपना काम करो वरना सर सर कहोगे और डाट दिए जाओगे. इसलिए तो हम अपना काम भी मस्ती में करते है और सबको मस्त रखते है.
तो अपना अंदाज़ सबसे निराला है मेरे गुरु ने कहा है की मेरा वक़्त बदलने वाला है.

आपका लल्लन.

Tuesday, March 23, 2010

बचपन की यादें

गुरु लोगो याद है अपना बचपन, खूब सारी मस्ती करते थे, बड़े हमें डाटते रहते थे पर हमें कुछ फरक नहीं पड़ता था. बस खेलते रहो धुप में दौड़ते रहो. गुरु उस ज़माने में कोई भी काम करते थे तो बस उसमे डीपली घुस जाते थे. डीपली तो मतलब डीपली . भाई लोगो यार पेड़ पे चढ़ जाते थे. गुरु न गिरने का डर न डाट खाने का डर पुरे दिन भर धामा-चौकड़ी करते रहते थे. स्कूल की किताब के बीच में चाचा चौधरी और साबू के किस्सों की किताब तो कभी सुपर कमांडो ध्रुव तो कभी नागराज की किताबे पढ़ते रहते थे, जब हम छोटे थे तब हम जोइंट फैमिली में रहते थे हम खुद ही एक टीम हो जाते थे. जिस दिन चाहो एक IPL खेल लेते थे . भाई वो दिन तो बहुत याद आते है गुरु खास कर जब ऑफिस में बैठ कर ढेर सारा काम करना पड़ता है. तब लगता है की बच्चे ही होते तो सही रहता गुरु. दोस्त यहाँ भी है पर दिन भर खेलने वाले वो दोस्त अब कहा रहे. भैया अब तो हम अपने बचपन के दिन को याद करके गर्मी बिता लेते है. क्या करे गुरु गुड्डू के साथ अपने बचपन के दिन को याद करते है और हस पड़ते है.

लल्लन

Wednesday, March 17, 2010

जय माता दी.

भक्तो क्या हो रहा है? गुरु यार बहुत busy हो गए है , सोच रहे है की अपना नाम ही बदल दे busy पाण्डेय रख ले. अरे गुरु आप लोग तो बात करते ही नहीं है पैर आप लोग परेशां न हो हम आप को अकेले नहीं रहने देंगे. भैया जी लोग आप लोग मस्ती कर रहे है रज्ज़ा आप लोग भी कुछ बताइए अपने बारे में बात करने में इतना मज़ा नहीं आता है अब हम सुब लोग आपस में बात करेंगे तो मज़ा बहुत आएगा. कोई बात नहीं मेरी तरफ से आप लोग निराश नहीं होंगे.

लल्लन

Friday, March 12, 2010

ग़ालिब की याद में

हजारों ख्वाहिशें ऐसी कि हर ख्वाहिश पे दम निकले
बहुत निकले मेरे अरमाँ, लेकिन फिर भी कम निकले

डरे क्यों मेरा कातिल क्या रहेगा उसकी गर्दन पर
वो खून जो चश्म-ऐ-तर से उम्र भर यूं दम-ब-दम निकले

निकलना खुल्द से आदम का सुनते आये हैं लेकिन
बहुत बे-आबरू होकर तेरे कूचे से हम निकले

भ्रम खुल जाये जालीम तेरे कामत कि दराजी का
अगर इस तुर्रा-ए-पुरपेच-ओ-खम का पेच-ओ-खम निकले

मगर लिखवाये कोई उसको खत तो हमसे लिखवाये
हुई सुबह और घर से कान पर रखकर कलम निकले

हुई इस दौर में मनसूब मुझसे बादा-आशामी
फिर आया वो जमाना जो जहाँ से जाम-ए-जम निकले

हुई जिनसे तव्वको खस्तगी की दाद पाने की
वो हमसे भी ज्यादा खस्ता-ए-तेग-ए-सितम निकले

मुहब्बत में नहीं है फ़र्क जीने और मरने का
उसी को देख कर जीते हैं जिस काफिर पे दम निकले

जरा कर जोर सिने पर कि तीर-ऐ-पुरसितम निकले
जो वो निकले तो दिल निकले, जो दिल निकले तो दम निकले

खुदा के बासते पर्दा ना काबे से उठा जालिम
कहीं ऐसा न हो याँ भी वही काफिर सनम निकले

कहाँ मयखाने का दरवाजा 'गालिब' और कहाँ वाइज़
पर इतना जानते हैं, कल वो जाता था के हम निकले

लल्लन

Thursday, March 11, 2010

समय की कमी

गुरु क्या बताये यार समय की बहुत ज्यादा कमी हो गयी है. हम तो चाहते है की आप सभी से ज्यादा से ज्यादा बात हो सके पैर क्या बताये गुरु यहाँ तो बस पूछो नहीं क्या क्या करना पड़ता है. गुरु सोच रहे की जॉब change कर दी जाये पर जॉब है की कोई मिल ही नहीं पा रही है. बस पूछो नहीं क्या हाल है यहाँ हमारा. हम बस अपने ही बारे में बोलते रहते है गुरु आप लोग बताओ की आप लोगो की क्या क्या प्रॉब्लम है. सच मानो जब तक हम है प्रोब्लेम पास नहीं आएगी. गुरु हमारे परम मित्र का नाम है गुड्डू आज कल तो बस उसी का सहारा है बस हम और वो हमारी स्कूटर यही तो अकेलेपन का सहारा है.
गुरु आप लोग बस बातो का सिलसिला जरी रखो हम आप को मस्त रहने में हेल्प करते रहेंगे.

लल्लन

Tuesday, March 9, 2010

घर के खाने का स्वाद

जब भी मै सुबह सो उठता हु तो हमेशा घर की याद आती है पूछिए क्यों, अरे भाई सुबह सुबह जब खुद से चाय बनानी पड़ती है तो घर की याद आती है. माँ के हाथ का खाना दुनिया में सबसे अच्छा खाना होता है माँ कुछ भी बना दे सुब मस्त ही लगता है. आप बताइए आप को क्या क्या याद आता है अपने घर का अगर आप घर के बहार रहते है और घर में रहते है तो क्या क्या करने का मन होता है. अजी कुछ तो बताइए तभी तो हमारी आपकी बात बढेगी.
तो आप कुछ हमें आसन सी दिश बताइए जो हमें घर की याद दिला दे.

लल्लन.

Monday, March 8, 2010

होली का खुमार ..

होली की पिचकारी का रंग लेने के बाद कल जब पहली बार हम ऑफिस गए तो ऐसा लगा की गुरु किसी ने जिंदगी ही बदल दी हो. बड़ा मज़ा आ रहा था होली में गुजिया खाने में सभी दोस्तों के घर जाने में क्या बताये ये नौकरी भी न कभी कभी दुश्मन लगती है. अब हम ऐसी जगह से है जहा की होली में भंग का रंग है सभी लोग होली के रंग में सराबोर हो जाते है. मित्रो की टोली निकल जाती है कवी सम्मलेन होने लगते है. जिंदगी का मज़ा आने लगता है.
ऐसी ही होली हम खेल कर आये है.

मेरे विचार

जी हमने सोचा की हम कितनी इंग्लिश जानते है तो पाया की सिर्फ interview और अपने मेनेजर से बात करने जितनी ही जानते है. सो ये सोच के हमने हिंदी में आप सब से बात करना सही समझा. आपने आज का newsपेपर देखा की नहीं हमने तो नहीं देखा चलिए आप ही कुछ बात दीजिये हमें क्या क्या हुआ अपने देश में.