Skip to main content

Posts

Featured

संगति

*वरं पर्वतदुर्गमेषु भ्रान्तं वनचरैः सः।* *न मूर्खजनसम्पर्कः सुरेन्द्रभवनेष्वपि।।*
हिंसक पशुओं के साथ जंगल और दुर्गम पहाड़ों पर विचरण करना, मूर्खों के साथ स्वर्ग में रहने से भी श्रेयस्कर है।
It is better to wander with wild animals in forests or trekking in tough mountains than to stay with fools even in a heaven.
मूर्खों की संगति से बचें।
शुभ दिन हो।
🌺🌹💐🙏🏼

Latest Posts

स्वभावगत कुटिलता

ज्ञान

गुण

परख

प्रयत्न

लक्ष्य

आचरण

व्यर्थ

परमतत्व

विचार