Friday, May 28, 2010

मौसम हुआ खुशगवार

गुरु लोगो क्या हो रहा है? यहाँ पे थोडा मौसम अच्छा हुआ है गुरु अब जा के थोडा सा मन शांत हुआ है. पर लगता नहीं है की ये मौसम कुछ समय तक ऐसा ही रहेगा. अरे गुरु ये तो सिर्फ झलक है भैया ये गर्मी तो गजब ही कर रही है. यहा पे नौकरी के चक्कर में रहना पड़ रहा है नहीं तो अपना घर इस समय पूरा ठंडा रहता है मस्तियाते रहो. माता जी हमें लस्सी और जाने क्या क्या बना के खिला रही होती. पूरे दिन भर कुलर के सामने बैठे रहो जब मन करे आम खा लो. जब मन करो लस्सी पि लो. अरे गुरु हम तो कह रहे है इस गर्मी में हिल स्टेशन अपना घर ही होता है चाहे जितना प्रकोप हो गर्मी का आदमी मस्त ही रहता है. अब यहाँ पे वो दसहरी और लगन्दा आम कहा मिलता है जिसकी खुशबू से ही पूरा घर मस्त हो जाता है. शाम को गंगा जी के घाट पे मस्ती करते. एक जमाना था जब रोज यही करते थे अब तो सोचना पड़ता है की कैसे करे ये सारी बाते. फिर भी पुरानी यादो को अपने दोस्तों के साथ शेयर करके मस्त हो जाते है.
अबे भोकाल है हम समझे.

लल्लन

4 comments:

राजेन्द्र मीणा said...

हां ! आज तो दिल्ली का मौसम भी कुछ सुधरा है

राकेश कौशिक said...

पिछले दो दिन तो दिल्ली में भी मौसम ठीक था लेकिन आज से फिर वही हाल

सुलभ § Sulabh said...

अरे भाई मत याद दिलाओ घर की...
हाँ थोड़ी राहत यहाँ जरुर मिली है.

सुलभ § Sulabh said...

आपके ब्लॉग पर तो धुम्रपान का क्रिएटिव अंदाज वाला विज्ञापन चला रहा है.. क्या चक्कर है भाई.